छठ पूजा 2018 व्रत कथा एवं पूजन विधि || Chhath Puja 2018 Vrat Katha Puja Vidhi


छठ पूजा 2018 व्रत कथा एवं पूजन विधि || Chhath Puja 2018 Vrat Katha Puja Vidhi

ॐ सूर्य देवं नमस्ते स्तु गृहाणं करूणा करं |
अर्घ्यं च फ़लं संयुक्त गन्ध माल्याक्षतै युतम् ||

छठ पूजा 2018 व्रत कथा एवं पूजन विधि || Chhath Puja 2018 Vrat Katha Puja Vidhi 


Chhath Puja is dedicated to the worship of the Sun god and his younger wife known as Usha in the Vedas

Chhath Puja 2018 Vrat Katha Puja Vidhi in Hindi | छठ व्रत या छठी मैया का व्रत भगवान सूर्यदेव और षष्टी देवी को समर्पित एक महान एव पवित्र पर्व है। यह पर्व भारत के कई हिस्सों में मनाया जाता है खासकर यूपीझारखंड और बिहार में तो इसे महापर्व के रूप में धूम धाम से मनाया जाता है। शुद्धतास्वच्छता और पवित्रता के साथ मनाया जाने वाला यह पर्व आदिकाल से मनाया जा रहा है। छठ व्रत में छठी माता (षष्टी माता) की पूजा होती है और उनसे संतान की रक्षा का वर मांगा जाता है। यह पर्व कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाए जाने वाले छठ व्रत का वर्णन भविष्य पुराण में सूर्य षष्ठी के रूप में है। हालांकि लोक मान्यताओं के अनुसार सूर्य षष्ठी या छठ व्रत की शुरुआत रामायण काल से हुई थी। इस व्रत को सीता माता समेत द्वापर युग में द्रौपदी ने भी किया था।




छठ पूजा व्रत कथा | Chhath Puja Vrat Katha in Hindi


छठ पूजा से सम्बंधित पौराणिक कथा के अनुसार प्रियव्रत नाम के एक राजा थे। उनकी पत्नी का नाम मालिनी था। परंतु दोनों की कोई संतान न थी। इस बात से राजा और उसकी पत्नी बहुत दुखी रहते थे। उन्होंने एक दिन संतान प्राप्ति की इच्छा से महर्षि कश्यप द्वारा पुत्रेष्टि यज्ञ करवाया। इस यज्ञ के फल स्वरूप रानी गर्भवती हो गई।

नौ महीने बाद संतान सुख को प्राप्त करने का समय आया तो रानी को मरा हुआ पुत्र प्राप्त हुआ। इस बात का पता चलने पर राजा को बहुत दुख हुआ। संतान शोक में वह आत्म हत्या का मन बना लिया। परंतु जैसे ही राजा ने आत्महत्या करने की कोशिश की उनके सामने एक सुंदर देवी प्रकट हुईं।

देवी ने राजा को कहा कि “मैं षष्टी देवी हूं। मैं लोगों को पुत्र का सौभाग्य प्रदान करती हूं। इसके अलावा जो सच्चे भाव से मेरी पूजा करता है मैं उसके सभी प्रकार के मनोरथ को पूर्ण कर देती हूं। यदि तुम मेरी पूजा करोगे तो मैं तुम्हें पुत्र रत्न प्रदान करूंगी।” देवी की बातों से प्रभावित होकर राजा ने उनकी आज्ञा का पालन किया।

राजा और उनकी पत्नी ने कार्तिक शुक्ल की षष्टी तिथि के दिन देवी षष्टी की पूरे विधि -विधान से पूजा की। इस पूजा के फलस्वरूप उन्हें एक सुंदर पुत्र की प्राप्ति हुई। तभी से छठ का पावन पर्व मनाया जाने लगा।

छठ व्रत के संदर्भ में एक अन्य कथा के अनुसार जब पांडव अपना सारा राजपाट जुए में हार गएतब द्रौपदी ने छठ व्रत रखा। इस व्रत के प्रभाव से उसकी मनोकामनाएं पूरी हुईं तथा पांडवों को राजपाट वापस मिल गया।


Chhath Puja is celebrated four days after Diwali

छठ पूजा का महत्व | Importance of Chhath Puja


भगवान सूर्य जिन्हें आदित्य भी कहा जाता है वास्तव में एक मात्र प्रत्यक्ष देवता हैं। इनकी रोशनी से ही प्रकृति में जीवन चक्र चलता है। इनकी किरणों से ही धरती में प्राण का संचार होता है और फलफूलअनाजअंड और शुक्र का निर्माण होता है। यही वर्षा का आकर्षण करते हैं और ऋतु चक्र को चलाते हैं। भगवान सूर्य की इस अपार कृपा के लिए श्रद्धा पूर्वक समर्पण और पूजा उनके प्रति कृतज्ञता को दर्शाता है। सूर्य षष्टी या छठ व्रत इन्हीं आदित्य सूर्य भगवान को समर्पित है। इस महापर्व में सूर्य नारायण के साथ देवी षष्टी की पूजा भी होती है। इस पर्व के विषय में मान्यता यह है कि जो भी षष्टी माता और सूर्य देव से इस दिन मांगा जाता है वह मुराद पूरी होती है.


The younger wife of the Sun god is known as the Chhathi maiya and is worshipped with fervour.

छठ पूजा व्रत विधि | Chhat Puja Vrat Vidhi 


भगवान सूर्य देव और देवी षष्टी माता को समर्पित यह त्यौहार पूरी सादगीस्वच्छता और समर्पण से मनाया जाता है। इस व्रत को स्त्री और पुरुष दोनों ही सामान रूप से रखते है। छठ व्रत चार दिनों तक चलता है। व्रत के पहले दिन यानी की कार्तिक शुक्ल चतुर्थी को नहाय खाय होता है जिसमे व्रती आत्म शुद्धि हेतु केवल अरवा (शुद्ध आहार) खाते है। कार्तिक शुक्ल पंचमी के दिन लोहंडा और खरना होता है यानी स्नान करके पूजा पाठ करके संध्या काल में गुड़ और नये चावल से खीर बनाकर फल और मिष्टान से छठी माता की पूजा की जाती है फिर व्रत करने वाले कुमारी कन्याओं को एवं ब्रह्मणों को भोजन करवाकर इसी खीर को प्रसाद के तौर पर खाते हैं। कार्तिक शुक्ल षष्टी के दिन घर में पवित्रता एवं शुद्धता के साथ उत्तम पकवान बनाये जाते हैं। संध्या के समय पकवानों को बड़े बडे बांस के डालों में भरकर जलाशय के निकट यानी नदीतालाबसरोवर पर ले जाया जाता है। इन जलाशयों में ईख का घर बनाकर उनपर दीया जालाया जाता है।

व्रत करने वाले जल में स्नान कर इन डालों को उठाकर डूबते सूर्य एवं षष्टी माता को आर्घ्य देते हैं। सूर्यास्त के पश्चात लोग अपने अपने घर वापस आ जाते हैं। रात भर जागरण किया जाता है। कार्तिक शुक्ल सप्तमी के दिन सुबह ब्रह्म मुहूर्त में पुन: संध्या काल की तरह डालों में पकवाननारियलकेलामिठाई भर कर नदी तट पर लोग जमा होते हैं। व्रत करने वाले (व्रती) सुबह के समय उगते सूर्य को आर्घ्य देते हैं। अंकुरित चना हाथ में लेकर षष्ठी व्रत की कथा कही और सुनी जाती है। कथा के बाद प्रसाद वितरण किया जाता है और फिर सभी अपने अपने घर लौट आते हैं। व्रती इस दिन पारण करते हैं।

इस पर्व से जुडी एक विशेष परम्परा के अनुसार जब छठ पूजा में मांगी हुई कोई मुराद पूरी हो जाती है तब मुराद पूरी होने पर बहुत से लोग सूर्य देव को दंडवत प्रणाम करते हैं। सूर्य को दंडवत प्रणाम करने की विधि बहुत ही कठिन होता है। लोग अपने घर में कुल देवी या देवता को प्रणाम कर नदी तट तक दंड देते हुए जाते हैं। दंड की प्रक्रिया इस प्रकार से है पहले सीघे खडे होकर सूर्य देव को प्रणाम किया जाता है फिर पेट की ओर से ज़मीन पर लेटकर दाहिने हाथ से ज़मीन पर एक रेखा खींची जाती है। यही प्रक्रिया नदी तट तक पहुंचने तक बार बार दुहरायी जाती है।
छठ पूजा करने वाले व्रती को कई कड़े नियमों का पालन करना पड़ता है जैसे की –

o    इसमें स्वच्छ व नए कपडे पहने जाते है जिसमे सिलाई न हो। महिलायें साडी और पुरुष धोती पहन सकते है।
o    इस चार दिनों में व्रत करने वाला व्रत धरती पे सोता है। जिसके लिए कम्बल और चटाई का प्रयोग कर सकता है।
o    इन दिनों घर में प्याज. लहसुन और मांस का प्रयोग वर्जित होता है।




छठ पूजा करने वाले वर्तियों को कई तरह के नियमों का पालन करना पड़ता है| उनमें से प्रमुख नियम निम्नलिखित है:
इस पर्व में पुरे चार दिन शुद्ध कपड़े पहने जाते है| कपड़ो में सिलाई ना होने का पूर्ण रूप से ध्यान रखा जाता है| महिलाएं साड़ी और पुरुस धोती धारण करती है|

  • पुरे चार दिन व्रत करने वाले वर्तियों का जमीन पर सोना अनिवार्य होता है| कम्बल और चटाई का प्रयोग करना उनके इच्छा पे निर्भर करता है|
  • इन दिनों प्याज, लहसुन और मांस-मछली का सेवन करना वर्जित है|
  • पूजा के बाद अपने-अपने सामर्थ्य के अनुसार ब्राम्हणों को भोजन कराया जाता है|
  • इस पावन पर्व में वर्तियों के पास बांस के सूप का होना अनिवार्य है|
  • प्रसाद के तौर पर गेहूँ और गुड़ के आटों से बना ठेकुआ और फलों में केले प्रमुख है|
  • अर्ग देते वक्त सारी वर्तियों के पास गन्ना होना आवश्यक है| गन्ने से भगवान सूर्य को अर्ग दिया जाता है|


Below mentioned is a step-by-step guide to Chhath Puja Vidi:
  • First of all take a sacred piece of cloth and spread it over the holy area or the puja sthan.
  • Place the idols of Lord Ganesha and Lord Surya on the red cloth.
  • Start with the puja/worship process; put Roli (vermillion) on Lord Ganesha and Lord Surya’s forehead.
  • Put Chawal (rice) on the forehead of both idols. Make sure the pieces of rice aren’t broken.
  • Lit incense sticks (Agarbatti) and wave gently in front of the idols.
  • Lit the Deepak of ghee in front of the idols and offer Prasad like fruits to Lord Ganesha and Lord Surya.
  • Take a little Chandan (sandal) in your mouth and keep it until sun rises.
  • After taking the sandal in your mouth you can either stand still or sit till the sun rises.
  • If possible visit a Surya Mandir (Sun Temple).
  • After sunrise, perform the same puja.
  • Offer holy water to the rising sun.
  • Distribute the khajur (date) among your family members and friends.



Post a Comment

0 Comments